विद्यालय प्रभार के वरीयता का नियम

विद्यालय प्रभार के वरीयता का नियम
Share This Post

Teacher RahmatTelegram GroupWhatsapp Group

Welcome Back!

मैं Md Rahmatullah अपने इस वेबसाइट www.teacherrahmat.com पर शिक्षक और शिक्षा से संबंधित सभी सूचनाओं के साथ-साथ बोर्ड और प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराते हैं। Departmental Letter, Regular Test Series और PDF Notes सहित सम्पूर्ण Study Material भी उपलब्ध कराते हैं। हमारी इस वेबसाइट पर आ रहे Notification को Allow करें। साथ ही साथ आप हमारे चैनल को भी Subscribe करें। ताकि हमारा हर अपडेट आप तक सबसे पहले पहुंच सकें।Subscribe Teacher Rahmat

आज के इस लेख में हम जानेंगे: विद्यालय प्रभार के वरीयता का नियम | प्रधान शिक्षक और प्रधान अध्यापक पद के वरीयता का नियम | विद्यालय प्रभार में किसे मिलेगी वरीयता

See also  बाल संसद प्रत्येक विद्यालय के लिए अनिवार्य, जानें इसकी संरचना और दायित्व

Quick

विद्यालय प्रभार के वरीयता का नियम

दोस्तों नेतृत्व एक प्रतिभा है जो हर किसी को भाता है। हर कोई चाहता है कि वह एक समूह का नेतृत्व करें। नेतृत्व क्षमता कभी अधिकार होता है तो कभी हमारा कर्तव्य बन जाता है। विद्यालय भी शिक्षकों का एक समूह है वहां पठन-पाठन के लिए अच्छे शैक्षिक वातावरण की स्थापना के लिए एक नेतृत्वकर्ता यानी प्रधानाध्यापक का होना आवश्यक है। जब विद्यालय में प्रधानाध्यापक की अनुपस्थिति होती है तो ऐसे विद्यालय में प्रधानाध्यापक के पद का प्रभार किसी शिक्षक को सौंपा जाता है। प्रधानाध्यापक का प्रभार किन शिक्षकों को सौंपा जाएगा यह उसका वरीयता निर्धारित करता है। आज की इस लेख में हम जानेंगे कि प्रधानाध्यापक और प्रधान शिक्षक के प्रभार के वरीयता के क्या नियम हैं। ताकि एक शिक्षक के रूप में आपको पता चल सके कि आपका अधिकार क्या है और क्या आपका कर्तव्य है।Subscribe Teacher Rahmat
कई बार ऐसा होता है कि वरीयता की अज्ञानता आपसी विवाद का कारण बन जाती है। विद्यालय में पठन-पाठन बाधित हो जाता है और अन्य व्यवस्था सही ढंग से संचालित नहीं हो पाती। इसीलिए प्रभार के वरीयता को जानना एक शिक्षक के लिए काफी आवश्यक है। तो आइए एक एक करके हम हर बिंदुओं पर चर्चा करते हैं।Subscribe Teacher Rahmat

See also  बी० एड० योग्यताधारी प्राथमिक शिक्षकों को मिलेगा छः माह का संवर्धन कोर्स

HM Seniority Rule

प्राथमिक विद्यालय के प्रधान शिक्षक या मध्य विद्यालय के प्रधानाध्यापक के पद के प्रभार के निम्नलिखित बिंदु हैं।

  1. वेतनमान का समान होना
  2. शिक्षकों का ग्रेड
  3. सेवा अवधि में वरीयता
  4. प्रशिक्षित शिक्षकों की वरीयता
  5. सेवा अवधि समान रहने पर अधिक आयु वाले को वरीयता
  6. सेवा अवधि, वेतनमान और आयु तीनों सामान्य रहने पर अंग्रेजी अल्फाबेट के अनुसार वरीयता

उम्मीद करता हूं कि यह लेख आपको आगे बहुत फायदा पहुंचाएगी। अगर उपरोक्त जानकारी आपको अच्छी लगी है तो आप इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करें

शेष संपूर्ण जानकारी विस्तार से जानने के लिए विडियो को अंत तक देखें

Browse more videos Click Here

You Also Read

See also  15% वेतन वृद्धि के बाद नियोजित शिक्षकों का नया वेतनमान - Niyojit Teacher New Pay Matrix Table

Share This Post