अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी से सम्बंधित दिशा निर्देश PDF

Guardian Meetig Guideline अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी से सम्बंधित दिशा निर्देश Education Department
Share This Post

अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी से सम्बंधित दिशा निर्देश

निदेशक (प्राथमिक शिक्षा). शिक्षा विभाग, बिहार ने राज्य के सभी जिले के जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी को आदेश दिया है की प्राथमिक कक्षाओं में कक्षा I के छात्र/छात्राओं के अभिभावकों के साथ दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 को अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी आयोजित किया जाए। अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी से सम्बंधित दिश निर्देशा निम्नलिखित है।

Guardian Meetig Guideline

जैसा की आप अवगत होंगें कि राज्य में बुनियादी साक्षरता एवं संख्या ज्ञान (FLN) मिशन के तहत विद्यालय में कक्षा । से ॥ तक के विद्यार्थियों में वर्ग सापेक्ष उपलब्धि प्राप्त करने हेतु विद्यालय स्तर पर विभिन्न गतिविधियाँ संचालित की जा रही हैं। वर्तमान में कक्षा । के छात्र/छात्राओं के लिए ‘चहक मॉड्यूल के तहत गतिविधियों संचालित की जा रही है, नवाचारी शिक्षण के लिए विद्यालयों को School Kit तथा Children Kit उपलब्ध कराया गया है। विद्यालय में पुस्तकालय हेतु बच्चों के लिए पुस्तकें भी उपलब्ध करायी गयी है, बच्चों के पास अपनी पाठ्यपुस्तकें भी उपलब्ध है। शिक्षकों द्वारा इन सभी शैक्षणिक संसाधनों के समुचित उपयोग से ही हम मिशन के लक्ष्यों को प्राप्त कर पायेंगे। साथ ही, यह भी आवश्यक है कि इस पूरी प्रक्रिया में विद्यार्थियों के अभिभावकों की एक महत्वपूर्ण प्रतिभागिता हो। उपरोक्त संदर्भ में वर्तमान में कक्षा । के छात्रों के अभिभावकों के साथ दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 को विद्यालयों में शिक्षक अभिभावक संगोष्ठी आयोजित करने का निदेश दिया जाता है।

See also  ऐसे ही होगा शिक्षक अभ्यर्थियों का online document verification || नियोजित शिक्षक on Web portal

अभिभावक शिक्षक संगोष्ठी से सम्बंधित दिशा निर्देश

इस संबंध में निम्नवत् पूर्व तैयारी आवश्यक है :

  1. जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में गठित जिला FLN मिशन की बैठक तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी की अध्यक्षता में गठित प्रखंड FLN मिशन की बैठक में शिक्षक अभिभावक संगोष्ठी आयोजित करने की रणनीति का निर्धारण किया जाय।
  2. जिले के सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को निदेश दिया जाय कि वे अपने क्षेत्राधीन सभी प्रधानाध्यापकों की बैठक दिनांक 10 से 12 अक्टूबर, 2022 को आहूत करें, जिसमें उन्हें इस आयोजन की जानकारी दें।
  3. प्रधानाध्यापकों को यह निदेश दिया जाय कि दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 के पूर्व विद्यालय भवन एवं परिसर की सामान्य साफ-सफाई आवश्यक रूप से करा लें तथा विद्यालय के सभी संसाधनों को सुव्यवस्थित कर लें।
  4. प्रधानाध्यापक द्वारा प्रत्येक छात्र/छात्राओं के अभिभावकों को एक पृष्ठ का हस्तलिखित आमंत्रण को प्रेषित किया जायेगा। इस आमंत्रण पत्र को बनाने में शिक्षक तथा सीनियर वर्ग के विद्यार्थियों की मदद ली जायेगी। आमंत्रण पत्र पर विद्यार्थी का नाम एवं अभिभावक/माता/पिता का नाम अंकित किया जायेगा। यदि संभव हो, तो शिक्षक छात्र/छात्राओं के घर जाकर उनके अभिभावकों को कार्यक्रम के लिए आमंत्रित कर सकते हैं।
  5. दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 के पूर्व सभी छात्र/छात्राओं के बीच चहक अभ्यास पुस्तिका तथा School Kit तथा Children Kit का उपयोग सुनिश्चित कराया जाय।
  6. दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 को आयोजित होने वाली बैठक के लिए विद्यालयों में निम्नलिखित व्यवस्थाएँ सुनिश्चित की जानी चाहिए :
    • बैठक के लिए बेंच डेस्क, दरी, सफेदा आदि की व्यवस्था।
    • दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 के दिन विद्यालय के सभी कक्षाओं में विद्यालयों को प्रदान की गयी School Kit तथा Children Kit को रखा जायेगा जिसके माध्यम से छात्र/छात्राओं का शिक्षण किया जायेगा।
    • विद्यालयों में प्रदान की गयी पुस्तकालय पुस्तकों को छात्र/छात्राओं के उपयोग के लिए रखा जायेगा।
    • IEC सामग्री (अभिभावक से संबंधित पोस्टर, अधिगम प्रतिफल पोस्टर) से विद्यालय को सजाना एवं निपुण अभियान गीत, चहक गीत इत्यादि लाउडस्पीकर के माध्यम से सुनाया जाय।
    • चहक की गतिविधियों की तैयारी।
  7. दिनांक 18 अक्टूबर, 2022 को निम्नलिखित गतिविधियाँ विद्यालय में अभिभावकों के साथ संचालित की जायेगी :
    • चहक गतिविधियों का प्रदर्शन।
    • प्रधानाध्यापक/शिक्षक अभिभावक संगोष्ठी में निम्नलिखित बिन्दुओं पर बात-चीत करेंगे :
      • निपुण अभियान अन्तर्गत कक्षा । के लक्ष्यों के बारे में बात चीत करेंगे।
      • उम्र सापेक्ष अज्ञात पाठ में से कम-से-कम चार-पाँच सरल शब्दों में से युक्त छोटे वाक्य पढ़ें
      • । -99 तक की संख्यायें पढ़ें और लिखें – सरल जोड़ और घटाव करें। ।
      • उपरोक्त लक्ष्य के आलोक में छात्र/छात्राओं को घर पर पढ़ने के लिए प्रेरित करने का आग्रह किया जायेगा।
      • छात्र/छात्राओं से विद्यालय में हो रही गतिविधियों के बारे में बात चीत करना।
      • विद्यालय के पुस्तकालय में उपलब्ध किताबों के बारे में अभिभावकों को जानकारी देना।
      • अभिभावकों को विद्यालय भ्रमण करवाना एवं उसके बाद अभिभावकों के विचार लेना।
      • अभ्यास पुस्तिका पर छात्र/छात्राओं द्वारा किये गये कार्य को दिखाना तथा छात्र/छात्राओं को विद्यालय में किये गये गतिविधियों को घर पर दोहराने/पुनः कराने के लिए अभिभावकों को आग्रह करना

Share This Post