BRC और CRC क्या होता है – CRC से संबंधित नियम

Brc और Crc क्या होता है Crc से संबंधित नियम
Share This Post

BRC और CRC क्या है

सर्व शिक्षा अभियान ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा के स्तर में सुधार लाने के उद्देश्य से बुनियादी सुविधाओं में सुधार करने को महत्वपूर्ण मानता है। विद्यालय की सुविधा सुधार के अलावा, मौजूदा स्कूल सुविधाओं के नज़दीक ही सीआरसी (क्लस्टर संसाधन केंद्र) और बीआरसी (ब्लॉक संसाधन केन्द्र) का निर्माण किया जाता है।

BRC और CRC के पद

बीआरसी और सीआरसी में मुख्यतः तीन पद होते हैं

  • संचालक
  • समन्वयक
  • खाता संचालक

संचालक और समन्वयक के दायित्य

कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेन्टर (CRC)/शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेन्टर (UCRC) के संचालक एवं समन्वयक तथा खाता संचालन के लिए निदेश निम्नवत् है :

  • कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/ शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) के रूप में अधिसूचित माध्यमिक/उच्च माध्यमिक विद्यालय के प्रधानाध्यापक/प्राचार्य उक्त कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) के पदेन संचालक होंगे।
  • साथ ही, कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) के साथ सम्बद्ध मध्य विद्यालय के वरीयतम प्रधानाध्याक/विद्यालय प्रधान उक्त कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) के पदेन समन्वयक होंगे।
  • कॉम्पलेक्स विद्यालय के प्रधानाध्याक/प्राचार्य तथा कॉम्पलेक्स विद्यालय के साथ सम्बद्ध मध्य विद्यालय के वरीयतम प्रधानाध्याक/विद्यालय प्रधान अपने मूल दायित्वों के अतिरिक्त कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) के क्रमशः संचालक एवं समन्वयक का कार्य करेंगे।
  • इस हेतु इन्हें कोई अतिरिक्त लाभ देय नहीं होगा।
  • कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (CRC)/ शहरी कॉम्पलेक्स रिसोर्स सेंटर (UCRC) का खाता संचालन कॉम्पलेक्स विद्यालय के प्रधानाध्याक/प्राचार्य-सह-संचालक एवं कॉम्पलेक्स विद्यालय के सम्बद्ध मध्य विद्यालय के वरीयतम प्रधानाध्याक/विद्यालय प्रधान-सह-समन्वयक के संयुक्त हस्ताक्षर से किया जाएगा।
  • सभी जिला शिक्षा पदाधिकारी तथा जिला कार्यक्रम पदाधिकारी (EE & SSA) तत्काल प्रभाव से उक्त आदेश का अनुपालन सुनिश्चित करायेंगे।
See also  Teacher Posting Detail: पदस्थापना प्रपत्र

संचालक और समन्वयक के कर्तव्य

सीआरसी समन्वयकों के कार्यों में शिक्षकों को निरंतर सहायता प्रदान करना, उनके प्रदर्शन की निगरानी करना, औपचारिक स्कूलों और वैकल्पिक शिक्षा केंद्रों दोनों में उनकी जरूरतों की पहचान करना और शिक्षा के क्षेत्र में काम कर रहे एसडीएमसी, समुदाय और गैर सरकारी संगठनों के साथ संपर्क करना शामिल है।

विकास खण्ड स्तर पर ब्लाक संसाधन केन्द्र (BRC), बेसिक शिक्षकों के लिये प्रशिक्षण तथा कार्यशाला का आयोजन करके शैक्षिक सहायता उपलब्ध कराता है। ब्लाक संसाधन केन्द्र पर शैक्षिक प्रशासन तथा शैक्षिक पर्यवेक्षण का कार्य खण्ड शिक्षा अधिकारी के द्वारा सम्पादित किया जाता है।


Share This Post