पशुओं की प्रमुख नस्ल

पशुओं की प्रमुख नस्ल
Share This Post

बकरी की नस्ल

  • जमनापुरी – सर्वाधिक दुध देने वाली बकरी
  • लोही – सर्वाधिक मांस देने वाली बकरी
  • जखराना – सर्वाधिक दुध व मांस देने वाली श्रेष्ठ नस्ल – राजस्थान के जखराना और अलवर जिले में पाई जाती है।
  • बरबरी – सुन्दर बकरी होती है। – उत्तर प्रदेश में पाई जाती है इसका पालन एटा, अलीगढ़ और आगरा जैसे जिलों में होती है।

अन्य बकरी की नस्ल – परबतसरी, सिरोही व मारवाड़ी।

गौवंश की नस्ल

  • गिर गाय – उद्गम – गिर प्रदेश(गुजरात)। इसे रेडां/अजमेरा भी कहते हैं। अजमेर, चित्तौड़गढ़, भीलवाड़ा जिले में पाई जाती है।
  • राठी – लालसिंधी एवं साहिवाल की मिश्रण नस्ल। सर्वाधिक दुध देने वाली गाय की श्रेष्ठ नस्ल। गंगानगर, जैसलमेर, बीकानेर जिले में पाई जाती है।
  • थारपारकर – उद्गम – बाड़मेर का मालाणी प्रदेश। दुसरी सर्वाधिक दुध देने वाली गाय।उत्तरी – पश्चिमी सीमावर्ती जिले में पाई जाती है।
  • नागौरी – उद्गम – नागौरी का सुहालक प्रदेश। इसका बैल चुस्त व मजबुत कद काठी का होता है। नागौर, बीकानेर, जोधपुर जिले में पाई जाती है।
  • कांकरेज – उद्गम – कच्छ का रन। गाय की द्विप्रयोजनीय नस्ल। जालौर, पाली, सिरोही, बाड़मेर जिले में पाई जाती है।
  • सांचौरी – जालौर, पाली, उदयपुर।
  • मेवाती – अलवर, भरतपुर, कोठी (धौलपुर)।
  • मालवी – मध्यप्रदेश की सीमा वाले जिले।
  • हरियाणवी – हरियाणा के सीमा वाले जिले।
See also  Create Free Landing Pages for Small Business.

भैंस की नस्ल

  • मुर्रा(कुन्नी) – सर्वाधिक दुध देने वाली भैंस की नस्ल। जयपुर, अलवर जिले में पाई जाती है।
  • बदावरी – इसके दुध में सर्वाधिक वसा होती है। भरतपुर, सवाई माधोपुर, अलवर जिले में पाई जाती है।
  • जाफाराबादी – भैंस की श्रेष्ठ नस्ल। कोटा, बांरा, झालावाड़ जिले में पाई जाती है।
  • अन्य नस्ल – नागपुरी, सुरती, मेहसाना।

भेड़ की नस्ल

  • चोकला (शेखावटी) – इसका ऊन श्रेष्ठ किस्म का होता है इसे भारत की मेरिनों कहते है। चोकला भेड़ सर्वाधिक राजस्थान के शेखावाटी, बीकानेर, नागौर, जयपुर जिले में पायी जाती है।
  • जैसलमेरी – सर्वाधिक ऊन देने वाली भेड़ की नस्ल। क्षेत्र – जैसलमेर, बाड़मेर, बीकानेर।
  • नाली – इसका ऊन लम्बे रेशे का होता है, जिसका उपयोग कालीन बनाने में किया जाता है। क्षेत्र – गंगानगर, बीकानेर, चुरू, झुन्झुनू।
  • मगरा – सर्वाधिक मांस देने वाली नस्ल। क्षेत्र – जैसलमेर, बीकानेर, चुरू, नागौर।
  • मारवाड़ी – इसमें सर्वाधिक रोग प्रतिरोधक क्षमता होती है। क्षेत्र – जोधपुर, बाड़मेर, जैसलमेर।
  • सोनाड़ी/चनोथर – लम्बे कान वाली नस्ल। क्षेत्र – उदयपुर, डुंगरपुर, बांसवाड़ा।
  • पूंगला – बीकानेर में।
  • मालपुरी/अविका नगरी – टोंक, बुंदी, जयपुर।
  • खेरी नस्ल – भेड़ के रेवड़ों में पाई जाती है।

Download PDF

इस अध्याय की PDF पाने के लिए हमारे YouTube चैनल की सदस्यता प्राप्त करें। किसी भी परीक्षाओं के संपूर्ण नोट्स के लिए 7631314948 पर संपर्क करें

सभी परीक्षाओं के सम्पूर्ण Study Material और हर प्रमुख सूचनाओं के लिए हमारे इस वेबसाइट पर आ रहे Notification को Allow करें। साथ ही साथ आप हमारे चैनल को भी Subscribe करें। ताकि हमारा हर अपडेट आप तक सबसे पहले पहुंच सकें।Subscribe Teacher Rahmat

See also  Build Your Own Website with Free Web Hosting
Teacher RahmatTelegram GroupWhatsapp Group

Share This Post